नीतीश के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने 1 बजे संभाला कार्यभार, 3 बजे देना पड़ा इस्तीफ़ा

नीतीश सरकार में शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने गुरुवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। चौधरी ने आज ही अपना कार्यभार संभाला था। मेवालाल 72 घंटे भी मंत्री नहीं रह पाए और इस्तीफा दे दिया। उनपर बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर का वीसी रहते नियुक्ति में घो’टाले का आ’रोप है। इसके अलावा विपक्ष ने उनकी पत्नी की सं’दि’ग्ध मौ’त के मा’मले में मेवालाल की क’थित सं’लिप्तता को लेकर जां’च की मांग भी की थी। मेवालाल चौधरी की पत्नी नीता चौधरी की 2019 में ज’लने से मौ’त हो गई थी।

भ्र’ष्टा’चार का मा’मला साल 2012 का है जब विश्वविद्यालय में कृषि वैज्ञानिक, असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती होनी थी। उसी साल 281 पदों के लिए विज्ञापन निकाला गया और परीक्षा के बाद 166 लोगों की नियुक्ति हुई थी। इसके बाद से ही नियुक्ति मा’मला विवादों में है। आरोप लगे और खुलासा हुआ कि परीक्षा में जिसे कम नंबर मिले उसे पार कर दिया गया और अधिक नंबर पाने वाले उम्मीदवार को फेल कर दिया गया।

इससे पहले शिक्षामंत्री बनाए जाने पर आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने चौधरी पर हम’ला बोला था। लालू प्रसाद यादव के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा था “तेजस्वी जहां पहली कैबिनेट में पहली कलम से 10 लाख नौकरियां देने को प्रतिबद्ध था वहीं नीतीश ने पहली कैबिनेट में नियुक्ति घो’टाला करने वाले मेवालाल को मंत्री बना अपनी प्राथमिकता बता दिया। विडं’बना देखिए जो भाजपाई कल तक मेवालाल को खोज रहे थे आज मेवा मिलने पर मौ’न धारण किए हैं।”

पत्नी की सं’दिग्ध मौ’त

पत्नी की संदिग्ध मौ’त के मा’मले को लेकर चौधरी ने आरजेडी नेता तेजस्वी यादव के खिला’फ 50 करोड़ का मुक’दमा दायर करने की बात कही है। उन्होंने कहा था कि मेरी पत्नी की मौ’त के मा’मले में जिस तरीके से आ’रोप लगाए जा रहे हैं उसको लेकर मैं तेजस्वी को का’नूनी नो’टिस भेजूंगा और 50 करोड़ का मा’न’हा’नि का मु’क’द’मा भी करूंगा।

क्यों देना पड़ा इस्ती’फा?

बता दें मेवालाल चौधरी पर भ्र’ष्टा’चार के आ’रोप हैं. पूर्व आईपीएस अमिताभ दास ने भी गं’भीर आ’रोप लगाए हैं. मेवालाल की पत्नी पूर्व विधायक नीता चौधरी की पिछले साल मौ’त हो चुकी है.

Bihar, Oct 03 (ANI): RJD leader Tejaswi Yadav addressing during a grand alliance press conference ahead of the Bihar Assembly Election, in Patna on Saturday. (ANI Photo)

आ’रोप हैं कि इस मामले के तार कृषि विश्वविद्यालय नियुक्ति घो’टाले से जुड़े हो सकते हैं. मा’मले की जां’च के लिए पूर्व आईपीएस अमिताभ दास ने डीजीपी को चिट्ठी लिखी है. 4 साल पहले 2016 में कृषि विश्वविद्यालय नियुक्ति घो’टाले का पर्दा’फाश किया गया था. 281 पदों के लिए निकाले गए विज्ञापन के बाद 166 लोगों की नियुक्ति हुई थी. आ’रोप है जिन अभ्यर्थियों को कम अंक मिले उन्हें पास कर दिया गया और ज्यादा नंबर वाले अभ्यर्थियों को फे’ल कर दिया गया.