महाराष्ट्र : कांग्रेस – शिवसेना में पड़ी दरार? आगामी BMC चुनावों को लेकर कांग्रेस का बड़ा ऐलान

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार में सहयोगी कांग्रेस ने ऐलान किया है कि पार्टी साल 2022 में बीएमसी चुनाव अकेले लड़ेगी। गुरुवार को कांग्रेस नेता रवि राजा ने कहा कि कांग्रेस अकेले ही बीएमसी चुनाव लड़ेगी और शिवसेना से गठबंधन की जरुरत नहीं है। महाराष्ट्र में फिलहाल एनसीपी-कांग्रेस-शिवसेना महा विकास अघाड़ी की सरकार है जिसके मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हैं। एनडीए में भाजपा की गठबंधन सहयोगी रही शिवसेना ने पिछले साल नवंबर में विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस और एनसीपी से हाथ मिला लिया।

इधर भाजपा ने भी अकेले बीएमसी चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। पार्टी नेता और पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि 2022 बीएमसी चुनाव में भाजपा किसी से गठबंधन नहीं करेगी। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा कि चुनाव की तैयारियां शुरू करें और मुंबई के सभी 227 वॉर्ड्स में पहुंचकर लोगों से जनसंपर्क करना शुरू कर दें। इसी तरह भाजपा नेता आशीष शेलार ने गुरुवार को कहा कि शिवसेना के भ’गवा झं’डे को पवित्र करने की आवश्यकता है क्योंकि पार्टी ने हि’न्दु’त्व के एजें’डे को छोड़कर एनसीपी और कांग्रेस से हाथ मिला लिया है।

शेलार की टिप्प’णी शिवसेना नेता संजय राउत द्वारा भाजपा के झंडे पर क’थित रूप से की गई संवे’दन’शील टिप्प’णी के बाद आई है। दूसरी तरफ महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब ने 2022 के बीएमसी चुनाव में जीत के भाजपा के दावे के बाद गुरुवार को कहा कि मुंबई के लोग पिछले 25 साल से शिवसेना से प्यार करते आए हैं और वे जानते हैं कि किसका समर्थन किया जाए।

नगर निकाय पर पिछले दो दशक से अधिक समय से शिवसेना का क’ब्जा है। परब ने कहा कि मुंबई शिवसेना से प्यार करती है। मुंबई पिछले 25 साल से (शिवसेना से) प्यार करती आई है। बहुत से लोग आए, कई घोषणाएं कीं और गायब हो गए। लेकिन मुंबई ने कभी शिवसेना से नाता नहीं तो’ड़ा। शिवसेना नेता ने कहा कि उनकी पार्टी एकमात्र पार्टी है जो हर समय मुंबई के लोगों के साथ खड़ी रही है। (एजेंसी इनपुट)