छत्तीसगढ़ के सीएम का तं’ज़ : जिन बीजेपी नेताओं ने दूसरे ध’र्म में शादी की उन पर ल’व जि’हा’द का’नून लागू होगा?

ल’व जि’हाद के खिला’फ का’नून को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीजेपी नेताओं पर निशा’ना सा’धा है. उन्होंने कहा कि पहले ये पूछना चाहिए कि जिन बीजेपी नेताओं ने दूसरे ध’र्म में शादी की है, उन पर ल’व जि’हाद का’नून लागू होगा या नहीं?

भूपेश बघेल ने कहा, “दु’र्भाग्य है कि जो सार्वजनिक उपक्रम जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी ने शुरू किए थे वो सब नि’जी हाथों में जा रहे हैं. इसका नु’कसान देश को हो रहा है. अब (केंद्र सरकार) सिर्फ हिं’दू मु’सलमान और ट्रि’पल तलाक में लगे हैं और अब ल’व जि’हाद आ गया. ल’व जि’हा’द आ गया तो जाति से बाहर शादी करने वालों पर का’नून बनाने की बात हो रही है.”

इसके साथ ही उन्होंने कहा, “बीजेपी के उन नेताओं पर ल’व जि’हाद लागू होता है कि नहीं जिन्होंने दूसरे धर्म में शादी की है. मुरली मनोहर जोशी हैं, सुब्रमण्यम स्वामी हैं, आडवाणी जी हैं. इन लोगों पर ल’व’ जि’हाद का’नून लागू होता है या नहीं…पहले तो यही पूछना चाहिए. ये सिर्फ बांटने का काम रहे हैं. लोगों को कैसे जोड़ना है, कैसे बढ़ाना, इस पर काम नहीं हो रहा है.”

बता दें कि इससे पहले राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने इसको लेकर बीजेपी पर निशा’ना सा’धा था. उन्होंने कहा था कि बीजेपी ने ये शब्द सां’प्र’दायिक सौहार्द बि’गाड़ने के लिए ग’ढ़ा है. जाहिर है कि यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार इस का’नून को लागू करने की तैयारी में है. वहीं मध्य प्रदेश सरकार ने भी कहा था कि इसको लेकर विधानसभा सत्र में विधेयक लाने की तैयारी की जा रही है.

वहीं बिहार में भी ल’व जि’हाद के खिला’फ का’नून लागू करने का केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने समर्थन किया. उन्होंने दा’वा किया कि यह विषय देश के राज्यों में परे’शानी का सब’ब बन गया है. गिरिराज ने नीतीश कुमार सरकार से अनुरोध किया कि वह यह समझे कि ल’व जि’हाद और जनसंख्या नियंत्रण जैसे मुद्दों का सां’प्र’दायिकता से कोई सरो’कार नहीं है बल्कि ये तो सामाजिक समरसता के विषय हैं.