CM अशोक गहलोत ने बीजेपी की इस चाल को लेकर फिर किया बड़ा खु’लासा

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot) ने दा’वा किया है कि BJP ने कहा था, यह गि’रने वाली कांग्रेस (Congress) की छठवीं सरकार होगी. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को चे’तावनी दी है कि उनके राज्य के साथ महाराष्ट्र में सरकार को गि’राने का फिर से प्रयास हो रहा है. गहलोत ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) पर सीधा हम’ला बोला है.

उन्होंने आरो’प लगाया कि शाह ने कांग्रेस के विधायकों से इस साल की शुरुआत में गोपनीय बैठकें की थीं. राजस्थान में नेता विपक्ष और BJP नेता गुलाब चंद्र कटारिया ने इस आ’रोप पर पल’टवार किया है. कटारिया ने कहा कि कांग्रेस बेहतर तरीके से राज्य की सेवा कर पाएगी अगर वह अपनी पार्टी के भीतर शांति बनाए रखेगी.

सिरोही जिले में कांग्रेस (Congress) पार्टी के कार्यालय का उद्घाटन करते हुए गहलोत (Ashok Gehlot) ने यह प्रतिक्रिया दी. गहलोत की सरकार पर जुलाई में उस वक्त ख’तरा उत्पन्न हो गया था, जब सचिन पायलट (Sachin Pilot) की अगुवाई में कांग्रेस के एक बा’गी गुट ने सरकार से अलग होने की धम’की दी थी.

गहलोत ने कहा कि बैठकों में शामिल विधायकों ने उन्हें सारी जानकारी दी थी. राजस्थान के सीएम ने कहा, “उन्होंने राजस्थान की सरकार को गि’राने की कोशिश की. केंद्रीय मंत्री अमित शाह (Amit Shah) और धर्मेंद्र प्रधान से मिलने के बाद विधायकों ने उन्हें बताया कि वे शाह को केंद्र के गृह मंत्री के तौर पर देखकर लज्जित हैं.”

गहलोत के अनुसार, “विधायकों से कहा गया था कि पहले भी पांच सरकारें वे गि’रा चुके हैं और यह छठवीं सरकार होगी. BJP इसी तरह सा’जिशें करती रही है.” वहीं गहलोत के आरो’पों का जवाब देते हुए भाजपा नेता ने कहा कि कांग्रेस अपना घर संभाल ले तो बेहतर होगा. यह बात कोई मायने नहीं रखती जब आप अपना घर में शांति कायम नहीं रख पाते हैं और दूसरों पर आरो’प लगाते हैं. जो लोग वि’द्रोह की कगार पर थे और जिन्हें कभी संतुष्ट नहीं किया गया.

गौरतलब है कि इस जुलाई में कांग्रेस (Congress) में अंदरूनी घ’मासान शुरू हो गया था. डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) की अगुवाई में 19 विधायकों ने दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर (Delhi-Haryana Border) के एक होटल में डेरा डा’ल दिया था. कांग्रेस ने लगातार आ’रोप लगाया कि राजस्थान सरकार गि’राने के इस प्रयास में भाजपा शामिल है.

सचिन पायलट की कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ मुलाकात के बाद ही यह मु’द्दा सुलझ सका था. दोनों ने बा’गी नेताओं की शि’कायतों को दूर करने के लिए एक पैनल बनाने का वादा किया था. गहलोत ने ब’गावत के उस दौर में सचिन पायलट को निकम्मा जैसे कठोर शब्दों का इस्तेमाल किया था. उन्होंने आरोप लगाया था कि पायलट भाजपा के साथ मिलकर सा’जिश रचते हुए कांग्रेस सरकार को गि’राने का प्रयास कर रहे थे.