इंदौर: चूड़ी बेचने वाले मुस्लिम शख्स पर भी एफआईआर, जानिए मामले की पूरी सच्चाई

मध्यप्रदेश की व्यावसायिक राजधानी इंदौर में चूड़ी बेचने वाले एक मुसलमान शख़्स को कथि’त तौ’र पर मज़’हब की वजह से पी’टा गया और ध’मकी दी गई कि चूड़ी बेचने हिंदुओं के इलाक़े में न आया करें.

बाद में इस मामले में एफ़आ’ईआर दर्ज की गई लेकिन फिर मारपीट के इस मामले में अब पुलिस ने जिस लड़के की पिटाई हुई है उस पर पॉ’क्सो एक्ट, छेड़छा’ड़ और 420 समेत 9 धाराओं में मामला दर्ज किया है.

वहीं इस मामले में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने भी संज्ञान लिया है.

अल्पसंख्यक आयोग ने इस मामले में इंदौर के कलेक्टर को नोटिस करते हुए पूछा है कि अल्पसंख्यक शख़्स को धर्म पूछकर बहुसंख्यक इलाक़े में उसके आने पर हम’ला क्यों किया गया?

आयोग ने ऐसे सां’प्रदा’यिक हम’ले को देश के सेक्युलर ढांचे पर चो’ट बताया है.

एआईएमआईएम नेता असदुद्दी ओवैसी ने भी इस पर अपनी कड़ी प्रति’क्रिया दी है. उन्होंने लिखा कि अब पुलिस ने तस्लीम के ख़िला’फ़ ही एफ़आ’ईआर दर्ज कर दी है. साथ ही उन्होंने ये भी लिखा कि एमपी के गृह मंत्री भी खुल कर अपरा’धियों के लिए बहाने बना रहे हैं.

क्या हुआ था रविवार को?

रविवार की देर शाम सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो में मौजूद शख़्स का नाम तस्लीम है और वो उत्तर प्रदेश के हरदो’ई के रहने वाले हैं. वो चूड़ियां बेचने के लिए इंदौर आते रहे हैं. इंदौर पुलिस ने रविवार देर रात इस घटना पर मामला दर्ज कर लिया है.

लेकिन मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा का दावा है कि वह व्यक्ति हिंदू नाम रखकर चूड़ियाँ बेचता था. मंत्री के मुताबिक़ चूड़ी बेचने वाले के पास से दो फ़’र्ज़ी आधारकार्ड भी मिले हैं.

वायरल वीडियो में जो दिख रहा है उसके मुताबिक एक व्यक्ति तस्लीम का बैग चेक कर रहा है और चूड़ियों को बाहर निकाल रहा है और कह रहा है कि ‘बहन बेटियों आओ और सब ले जाओ’.

उसी वीडियो में तस्लीम को यह कहते हुए धम’की दी जा रही है कि ‘आज के बाद किसी भी हिंदू क्षेत्र में मत दिख जाना.’

इस दौरान कई लोग तस्लीम को मा’रते हुए भी देखे जा सकते हैं. एक आवाज़ आती है कि ‘मुसलमान है’. वीडियो में गा’लियाँ भी दी जा रही हैं.

सोशल मीडिया पर वीडियो वा’यरल होने के बाद कुछ लोग देर रात सेंट्रल कोतवा’ली इलाक़े में पहुँच गए और का’र्रवाई की माँग करने लगे.

पुलिस एफ़आ’ईआर में क्या लिखा है?

पुलिस पहले तो कहती रही कि इस संबंध में कोई शिका’यत नहीं मिली है, इसलिए मामला दर्ज नहीं किया गया है. लेकिन बाद में पुलि’स ने मामला दर्ज कर लिया.

पुलिस ने अपनी एफ़आ’ईआर में लिखा है कि “तस्लीम अली जब गोविंद नगर थाना बाणगंगा क्षेत्र में चूड़ियां बेचने गए थे तो 5-6 लोग आए और उनका नाम पूछा और जब उन्होंने नाम बताया तो लोगों ने मा’रना शुरू कर दिया.

उन लोगों ने तस्लीम के पास मौजूद 10,000 रुपये नक़द और मोबाइल फ़ोन भी छीन लिए. इसके साथ ही उनका आधार कार्ड और अन्य दस्तावेज़ भी ले लिए गए. साथ ही लगभग 25,000 हज़ार रुपये का माल जिसमें चूड़ियां शामिल थीं लू’ट लिया गया.”

इंदौर पूर्व के पुलिस अधीक्षक आशुतोष बागरी ने बताया कि “वा’यरल वीडियो मामले में एफ़आ’ईआर की जा चुकी है. इस मामले में 14 धाराएं आई’पीसी की लगाई गईं हैं. इसमें एफ़आ’ईआर अज्ञा’त पर की थी. पुलिस के पास वीडियो था जिसे देखकर पुलिस ने तीन मुख्य अभियुक्तों की पहचान की है. इन लोगों ने बाक़ी को उकसा’या.”

उन्होंने बताया, “दो अभि’युक्तों को राउंड अप (गिरफ़्ता’र) कर लिया गया है और तीसरे को भी ट्रे’स किया जा चुका है. बाक़ी लोगों को भी देखा जा रहा है और उनकी भी गिरफ़्ता’री की जाएगी.”

साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि, “थाने में भीड़ इकठ्ठा करने वाले लोगों पर भी मामला दर्ज किया गया है. तीन नामज़द लोगों और 25-30 अज्ञा’त पर मामला दर्ज किया गया है.”

तस्लीम पर पॉ’क्सो एक्ट में मामला दर्ज

हालांकि सोमवार को इस मामले में पुलिस ने तस्लीम अली पर पॉ’क्सो एक्ट, छेड़छा’ड़ और 420 समेत 9 धा’राओं में मामला दर्ज किया और बता’या कि उसकी तलाश शुरू कर दी गई है.

पुलिस के मुता’बिक़, तस्लीम के ख़ि’लाफ़ एक नाबा’लिग़ लड़की ने शिका’यत की कि तस्लीम ने उसके साथ छेड़छा’ड़ की थी.

राज्य के गृह मंत्री का क्या कहना है?

लेकिन राज्य के गृहमंत्री ने इसे अलग तरह से पेश किया है.

भोपाल में गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पत्रकारों से कहा, “वो हिंदू नाम से वहाँ सामान बेच रहा था. वो दूसरे समुदाय से था. इसी तरह के दो आधार कार्ड भी मिले हैं. बेटियों को बहुओं को सावन के दिन चूड़ियां पहनाने की हमारे यहां ज़्यादा परंपरा है. वहां से विवा’द शुरू हुआ था और उसके बाद दोनों पक्षों पर कारवाई हुई.”

राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून लगाने की मांग

कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष इमरान प्रतापगढ़ी ने राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इसके लिए ज़िम्मेदार लोगों पर पर का’र्रवाई करने की माँग की है.

इमरान प्रतापगढ़ी ने ट्वीट किया, “ये वीडियो अफ़ग़ा’निस्तान का नहीं बल्कि आज के इंदौर का है, शिवराज चौहान जी के सपनों के मध्यप्रदेश में एक चूड़ी बेचने वाले मुसलमान का सामा’न लूट कर सरेआम भीड़ से लिं’चिं’ग करवाई जाती है. नरेंद्र मोदी जी क्या यही भारत बनाना चाहते थे आप? इन आ’तंकियों पर का’र्रवाई कब?”

वहीं सुप्रीम कोर्ट के एक वकील एहतेशा’म हाशमी का कहना है कि इस मामले में राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून (एनएसए) लगाया जाना चाहिए.

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयान पर उन्होंने कहा कि अगर वह व्यक्ति हिंदू नाम से वहां चूड़ियां बेच रहा था तो फिर उनका असली नाम कैसे पता चला और अगर उनके पास दो आधार कार्ड थे तो उस पर का’र्रवाई पु’लिस को करना चाहिए न कि लोगों को.

उन्होंने कहा, “उसे मा’रने का हक़ किसी को भी नहीं है. इस मामले में एनएसए के तहत का’र्रवाई करने का प्रया’स किया जा रहा है.”