छठ पूजा को लेकर इन राज्यों में प्रतिबंध, सरकार ने जारी की ये गाइडलाइंस

कोरोना के चलते देश के महत्वपूर्ण पर्व और त्योहारों पर भी इसका बुरा असर पड़ा है. इस बार अधिकतर त्योहार कोरो’ना महामारी के साए में ही मनाए जा रहे हैं. ऐसे में लोगों की सुरक्षा को देखते हुए सरकार की तरफ से सख्ती के साथ गाइडलाइंस जारी की जाती रही हैं. पूर्वांचलियों के लिए प्रसिद्ध छठ का पर्व आज देश के हर कोने में मनाया जाता है. लोग नदी किनारे सूर्य को अर्घ्य देने के लिए भारी तादाद में पहुंचते हैं. लेकिन इस बार छठ के इस महापर्व पर देशभर के अलग-अलग राज्यों में वहां की सरकार ने गाइडलाइन जारी की है. आइये जानते हैं यूपी-दिल्ली से लेकर ओडिशा और महाराष्ट्र तक क्या हैं गाइडलाइन्स?

दिल्ली में सार्वजनिक स्थलों पर छठ पूजा पर रोक

दिल्ली सरकार ने कोरोना के तेजी से बढ़ रहे मामलों के देखते हुए इस मौके पर अवकाश तो घोषित किया है लेकिन सार्वजनिक तौर पर छठ पूजा की इजाजत नहीं दी है. हालांकि, लोग अपने घरों में या किसी निजी स्थल पर छठ का यह पर्व मना सकते हैं। त्योहार में कोविड-19 दिशा-निर्देशों का पालन करना जरूरी होगा।

हालांकि रोक को लेकर जमकर राजनीति भी हो रही है. यही नहीं महामारी के प्रकोप को देखते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने भी राष्ट्रीय राजधानी में घाटों पर छठ पूजा समारोह आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया.

  बिहार में लोगों से घर पर ही छठ पूजा की अपील:

बिहार सरकार ने लोगों से इस बार कोरोना महामारी के चलते यथा संभव घर पर ही छठ पूजा करने की अपील की है. इसके साथ ही प्रशासन ने श्रद्धालुओं से तालाब किनारे पूजा करने और अर्घ्य के दौरान उसमें डुबकी नहीं लगाने का आग्रह किया है. गृह विभाग के निर्देशों के अनुसार, छठ पर्व के दौरान बु’खार से ग्रस्त व्यक्ति, 60 साल से ऊपर के व्यक्ति, 10 साल से कम उम्र के बच्चे और अन्य गं’भीर बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों को छठ घाटों पर नहीं जाने की सलाह दी है. इसके साथ ही, प्रत्येक व्यक्ति को मास्क का प्रयोग करने और 2 गज की दूरी का अनिवार्य रूप से पालन करने की सलाह दी गई है.

यूपी में छठ पर्व को लेकर सुरक्षा के सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश की योगी सररकार ने कोरोना के बीच छठ पर्व को लेकर जारी गाइडलाइन्स में सुरक्षा के स’ख्त निर्देश दिए हैं. राज्य के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने निर्देश जारी करते हुए कहा कि पूजन स्थलों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होना चाहिए और सभी कार्यक्रमों में 2 गज की दूरी और मास्क का अनिवार्य रूप से इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

इसके साथ ही, इन गाइडलाइन्स में महिलाओं से कहा गया है कि वे छठ पर्व को घर पर ही मनाएं या घर के पास ही मनाएं. साथ ही, घाटों में पानी के बहाव के समुचित प्रबंध के निर्देश भी दिए गए हैं.

झारखंड में छठ घर पर मनाने की अपील

कोरो’ना महा’मा’री के चलते झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार ने इस बार छठ पर्व को दिल्ली की तरह की सार्वजनिक तौर पर मनाने की इजाजत नहीं दी है. राज्य सरकार ने सार्वजनिक तालाब, बांध, जलाशय और नदी में छठ पूजा के मौके पर अर्घ्य की इजाजत नहीं दी है. राज्य सरकार ने गाइडलाइन्स में श्रद्धालुओं से छठ पूजा घर में ही मनाने की अपील की है.

महाराष्ट्र में समुद्र किनारे छठ पर रोक

महाराष्ट्र में भी कोरोना के चलते इस बार छठ पर्व के मौके राज्य की उद्धव सरकार ने कई तरह की रोक लगाते हुए गाइडलाइन्स जारी की है. बीएमसी ने मुंबई में समुद्र तटों, नदी और तालाब में छठ पूजा मनाने पर रोक लगा दी है. इसके साथ ही, मुंबई पुलिस से भी कहा गया है कि वे सार्वजनिक स्थलों पर श्रद्धालुओं की भीड़ को इकट्ठा होने से रोंके. हालांकि, इन कड़े निर्देशों के बीच कृत्रिक तालाबों में छठ पूजा की इजाजत दी गई है.

बंगाल और ओडिशा में लगी रोक

कोरोना महामारी के चलेत बंगाल में छठ पर्व को लेकर कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं। राज्य की ममता सरकार ने यहां पर प्रतिबंधित ढंग से समारोह मनाने की इजाजत दी है, लेकिन आतिशबाजी की अनुमति नहीं दी गई. जबकि अगर ओडिशा की बात करें तो यहां पर नदी के किनारे नहाने और समारोह पर पाबंदी लगाई गई है. ओडिशा सरकार ने ये प्रतिबंध इसलिए लगाया है क्योंकि घाट पर लोग एकत्र होते हैं तो भीड़ में कोरो’ना का सं’क्रमण अधिक फैलने का खत’रा उत्पोन्न  होगा। इतना ही नहीं, राज्य सरकार की चे’तावनी है कि इस आदेश का उल्लंघन करने वाला कोई भी व्यक्ति 2005 के आप’दा प्रबंधन अधिनियम और अन्य संबंधित कानूनों के तहत सजा दी जाएगी।