सीमा विवा’द : ची’न की सीनाज़ोरी, पैंगोंग त्सो पर ठो’का दावा और भारत से बोला ज़मीन ख़ाली करे

भारत और ची’न के बीच लद्दा’ख (Ladakh) में सी’मा विवा’द जारी है. सूत्रों के मुताबिक, भारत और ची’न के बीच लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अधिकारियों के बीच 5वें दौर की बातचीत बेनतीजा रही. यह बैठक ची’न के अनुरोध पर रविवार को मोल्डो में हुई थी, जो 10 घंटे तक चली थी. अब ची’न’ ने उल्टा भारत से पैंगोंग त्सो से पीछे हटने को कहा है. ची’न के इस प्रस्ताव को भारत ने ठु’कराया. ची’न ने भारत से फिंगर 4 से भी पीछे हटने को कहा जबकि भारत फिंगर 8 तक पैट्रोलिंग किया करता था और भारत फिंगर 8 को L’A’C मानता है.

फिंगर 4 L’AC के इस पार भारत के नियंत्रण वाला क्षेत्र रहा है, लेकिन मई महीने से चीनी सेना फिंगर 4 पर आ चुकी थी बाद में बातचीत के बाद चीनी सेना फिंगर 5 पर चली गई. भारतीय सेना को अब भी चीनी सेना फिंगर 8 तक पैट्रोलिंग करने के लिए आगे नहीं बढ़ने दे रही है. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल की अध्यक्षता वाले चीन स्टडी ग्रुप ने ची’न के प्रस्ताव का अध्ययन किया.

जिसके बाद सेना ने हॉटलाइन के जरिए ची’न को बता दिया कि उसका प्रस्ताव भारत को मंजूर नहीं है. रविवार को हुई बातचीत में ची’न भी पैंगोंग त्सो से पीछे नहीं हटने पर अ’ड़ा रहा. भारत ने LAC पर त’नाव कम करने के लिए चीन के पीछे हटने और अप्रैल की यथास्थिति कायम करने की शर्त रखी थी. अब ची’न भारत से ही पीछे हटने को कह रहा. गोगरा हॉट स्प्रिंग के पैट्रोलिंग पॉइंट 17 और 17-A से भी अब चीनी से’ना पीछे नहीं हट रही और डि’सइन’गेजमेंट प्रक्रिया का पालन नहीं कर रही है.

बता दें कि र’क्षा मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर एक डॉक्यूमेंट अपलोड किया है, जिसमें उसने स्वीकार किया है कि मई महीने से ची’न लगातार L’AC पर अपना अ’ग्रे’शन बढ़ा’ता जा रहा है. खासतौर से गल’वान घाटी, पैंगोंग त्सो, गोगरा हॉट स्प्रिंग जैसे क्षेत्रों में ची’न अ’ग्रे’शन बढ़ाता जा रहा है. 5 मई के बाद से ची’न का यह आ’क्रा’मक रूप L’AC पर नजर आ रहा है. 5 और 6 मई को ही पैंगोंग त्सो में भारत और ची’न की सेना के बीच में हिं’सक झ’ड़प हुई थी.