माधवराव के बालसखा पूर्व मंत्री कांग्रेस में जाने पर विजयवर्गीय ने सिंधिया पर दिया ये बड़ा बयान

सिंधिया परिवार के करीबियों में शामिल रह चुके पूर्व मंत्री बालेंदु शुक्ल ने शुक्रवार को भाजपा का साथ छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लिया। भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में शुक्ल ने पूर्व मुख्यमंत्री और मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता ली।

कमलनाथ ने 74 वर्षीय शुक्ल को सदस्यता रसीद सौंपी। इस संबंध में विजयवर्गीय ने कहा कि यह उनके और सिंधियाजी के बीच का व्यक्तिगत विषय है, इस पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा।

सांवेर विधानसभा की पहली बैठक में शामिल होने आए भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बस इतना कहा कि ये दोनों के बीच का व्यक्तिगत विषय है, मैं कुछ नहीं कहूंगा।

वे सिंधिया से नाराज होकर कांग्रेस से भाजपा में आए थे। सिंधिया भाजपा में आ गए तो शुक्ल कांग्रेस में चले गए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जिस प्रकार से प्रदेश की जनता को धोखा दिया- खासकर किसानों को। किसान कांग्रेस को सबक सिखाना चाहते हैं, इसलिए हम उपचुनाव में सभी 24 सीटें जीतेंगे।

मंत्री सिलावट बोले- पहले भी कोई फर्क नहीं पड़ा अब भी नहीं पड़ेगा

सांवेर विधानसभा की बैठक में पहुंचे मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि मेरे संज्ञान में यह बात नहीं है। यदि वे कांग्रेस में गए हैं तो अच्छी बात है। वे भाजपा छोड़कर कांग्रेस में क्यों गए, इसका जवाब तो वे ही दे सकते हैं। उनके जाने से पहले भी कोई फर्क नहीं पड़ा था और अब भी नहीं पड़ेगा। सांवेर सीट को जिताने की जिम्मेदारी विधायक रमेश मेंदोला को देने पर उन्होंने कहा कि इसस अच्छा और क्या हो सकता है।