असम में CAA लागू करने को लेकर गृहमंत्री अमित शाह का बड़ा बयान

पश्चिम बंगाल और असम में विधनसभा चु’नाव के पहले चरण की वो’टिंग 27 मार्च को होने जा रही है. बीजेपी जहां एक तरफ असम में फिर सत्ता में आने का दा’वा कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ बंगाल में ममता बनर्जी की अगुवाई वाली टीएमसी सरकार को उ’खाड़ने की पूरी कोशिश में लगी है. इस बीच, पहले चरण की वो’टिंग से ठीक पहले केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एबीपी न्यूज से बात करते हुए कई मु’द्दों पर बे’बाकी से जवाब दिए.

पूरे देश में एक साथ लागू होगा सीएए

अमित शाह ने कहा कि पूरे देश में एक साथ नागरिकता संशोधन कानू’न (सीएए) को लागू किया जाएगा. उन्होंने कहा कि फिलहा’ल कोरोना वैक्सीनेशन का काम जो’र-शो’र के साथ चल रहा है. संसद से यह कानू’न पास है और कोरोना के चलते इसके लागू करने में देरी हुई है. गृह मंत्री ने कहा कि हर शरणार्थी को नागरिकता मिलेगी. इसमें किसी को संशय रखने की जरूरत नहीं है.

ममता को सीएए से क्या प’रेशानी?

अमित शाह ने कहा कि सीएए में ना’गरिकता लेने नहीं बल्कि देने का प्रावधान है. उन्होंने कहा कि जब ममता जी कहती हैं कि सारे लोग नागरिक है फिर नागरिकता का ठ’प्पा लगने पर उनको तकलीफ क्या है? उन्होंने घु’सपै’ठ पर कहा कि लॉ एंड ऑर्डर राज्य की जिम्मेदारी है. असम में कैमरे लगाए, फेंसिंग की. घु’सपै’ठ तभी रुकेगा जब पुलिस और बीएसएफ मुश्तै’द हो. उन्होंने आरोप लगाया कि ममता दीदी इन चीजों को हल्के में ले रहीं हैं. उन्होंने कहा कि घु’सपै’ठ रोकने केन्द्र सरकार हो या फिर राज्य सरकार हो, उसकी प्राथमिकता होनी चाहिए.

केन्द्रीय गृह मंत्री ने आगे कहा- “हम विचारधारा नहीं बदल रहे हैं बल्कि जो लोग पार्टी में आ रहे हैं वो हमारी विचारधार को फॉलो कर रहे हैं. मैं मानता हूं कि वह इस आइडियोलॉजी में अपने आपको ढाल लेंगे और हमारे सांचे में ढ’ल जाएंगे.”

अमित शाह ने कहा कि अगर कोई नेता चु’नाव से पहले पार्टी बदलता है तो वह ब’दल सकता है क्योंकि अगले पांच साल का जनादेश लेने जाना होता है. शुभेंदु अधिकारी के बारे में यह जनता तय करेगी कि अब जहां वह है वो सही जगह है या पहले जहां थे वो सही जगह थी. उन्होंने कहा कि नंदीग्राम में यह भी तय हो जाएगा कि अभ जहां पर शुभेंदु हैं वह सही जगह है.