मोदी ने गलवान हिं’सक झ’ड़प का ‘मुंहतो’ड़ जवाब’ चीन से उधार लेकर दिया है: ओवैसी

ची’न मुद्दे को लेकर लोकसभा सांसद और ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मु’स्लि’मीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर हम’ला बो’ला है। एक मीडिया रि’पोर्ट का हवा’ला देते हुए ओवैसी ने कहा कि मोदी सर’कार ने गल’वान में हुई हिं’सक झ’ड़प का ‘मुं’हतो’ड़ जवाब’ ची’न से उ’धार लेकर दिया है।

ओवैसी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, ’15 जून को ची’नी सै’निकों के साथ झ’ड़प में 20 भार’तीय जवा’नों ने अपनी जा’न गं’वा दी। उनके साथ अन्या’यपूर्ण और निर्म’म बर्ता’व किया गया। चार दिनों बाद, 19 जून को प्रधानमंत्री ने चीन से 5,521 करोड़ उधार लेकर उसे ‘मुंहतो’ड़ जवाब’ दे दिया। यह हमारे जवा’नों के ब’लिदा’न का अप’मान है।’

इसके पहले ओवैसी ने सरकार को घे’रते हुए कहा था कि ‘सर्वदलीय बैठक में आपने कहा था कि किसी भारतीय क्षेत्र पर क’ब्जा नहीं है और कोई घु’सपै’ठ नहीं हुई है? फिर गल’वान में हमने 20 ब’हादुर सै’निक कैसे खो दिए?

उस रात क्या हुआ था? सरकार हमारे बंदी सै’निकों के बारे में सच क्यों नहीं बता रही है? आपने संसद को यह क्यों नहीं बताया कि आपने ची’न से मांग की है कि L’A’C पर अप्रैल 2020 से पहले की स्थिति जैसी यथा’स्थिति बनाए रखी जाय ? अथवा मौजूदा स्थिति को ही यथा’स्थिति माना जाए?’

बता दें कि गल’वान घा’टी में 15 जून को हुई हिं’सक झ’ड़प के बाद त’नाव कई गुणा बढ़ गया था। इस झ’ड़प में 20 भार’तीय सै’निक श’हीद हो गए थे। ची’न के सै’निक भी इस झ’ड़प में ह’ता’हत हुए थे लेकिन उसने अब तक इसके ब्यो’रे उपलब्ध नहीं कराए हैं।

दोनों पक्षों ने त’नाव को कम करने के लिए पिछले कुछ हफ्तों में कई चरण की कू’टनी’तिक एवं सै’न्य वा’र्ता की हैं। गल’वान घा’टी झ’ड़प के बाद से’ना ने भा’री ह’थिया’रों के साथ हजारों अतिरिक्त सै’निकों को सी’मा के पास अ’ग्रिम चौ’कियों पर भेजा था।