कर्नाटक में अब लव जि’हाद साथ बीजेपी सरकार लाएगी ये कानून, मंत्री बोले- “चल रहा है काम”

लव जि’हाद  को लेकर पूरे देश में छि’ड़ी बहस के बीच कई राज्य का’नून बनाने पर विचार कर रहे हैं. कर्नाटक भी इन राज्यों में शामिल है. कर्नाटक (Karnataka) के उप मुख्यमंत्री डॉक्टर सीएन अश्वत नारायण ने कहा कि राज्य सरकार “लव जि’हाद” और गौह’त्या  के खि’लाफ बिल पेश करने की प्रक्रिया में है. इससे पहले, उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी सरकार ने गै’र-कानू’नी धर्मां’तरण के खि’लाफ नया अध्यादेश पेश किया है.

कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री अश्वत नारायण ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, “कई राज्य पहले ही विधेयक ला चुके हैं. हम भी गौह’त्या  पर प्रतिबं’ध लगाने और लव जि’हाद के खि’लाफ  विधेयक लाने की प्रक्रिया में हैं.”

अक्टूबर महीने में बल्लभगढ़ में एक छात्रा की कॉलेज से निकलते समय गो’ली मा’रकर ह’त्या कर देने के बाद से “लव जि’हाद” का मु’द्दा एक बार फिर सुर्खियों में है. इस मा’मले में तौसिफ मुख्य आ’रोपी है, जबकि रेहान और अजरू बाकी आरो’पी हैं. निकिता ह’त्याकां’ड के विरो’ध में बल्लभगढ़ में हिं’सा भ’ड़क उठी थी. लोगों ने सड़क जा’म कर दिया था और आ’गजनी की थी.

हाल ही में उत्तर प्रदेश सरकार ने ज’बरन ध’र्म परिवर्तन की जांच करने अध्यादेश को मंजूरी दे दी है. सरकार का कहना है की इस कानू’न का म’क़सद महिलाओं को सुरक्षा देना है. राज्यपाल ने इस अध्यादेश को मंजूरी दे दी है. इसमें प्रावधान है कि लाल’च, झू’ठ बोलकर या ज़ो’र ज़ब’रदस्ती  किये गए ध’र्म परिवर्तन या शादी के लिए किए गए ध’र्म परिवर्तन को अपरा’ध माना जाएगा. ना’बालिग, अनुसूचित जाति- जन’जाति की महिला के ध’र्मपरिवर्तन पर क’ड़ी स’जा होगी.